Wed. Jun 12th, 2024

17 जनवरी 1601 : असीरगढ़ के किले पर धोखे से कब्जा किया था अकबर ने !

असीरगढ़ का किलाअसीरगढ़ का किला

–रमेश शर्मा

बचपन की पाठ्यपुस्तकों में मुगल बादशाह अकबर को महान पढ़ा था । उन पुस्तकों में कुछ उदाहरण भी थे । इस कारण अकबर को और समझने की जिज्ञासा सदैव बनी रही । आगे चलकर उनकी महानता की अनेक कहानियाँ भी पढ़ी । हो सकता है वे सारी घटनाएं सही हों । पर अकबर के अधिकाँश सैन्य अभियान धोखे और चालाकियों से भरे हैं । भारत में अकबर के जितने सैन्य विजय हुईं । वे अकबर के शौर्य और सैन्य बल से कम अपितु कूटनीति, फूट डालकर, परिवार जनों को तोड़कर या किसी भेदिये को किले में भेजकर दरबाजा खुलवाने की युक्ति से भरीं हैं । उनमें एक है मध्यप्रदेश में सतपुड़ा के शिखर पर बने असीरगढ के किले पर अकबर महान के कब्जे का विवरण, जो उन्होंने धोखे से किया था । कब्जे के बाद किले में लूट और हत्याकांड का सिलसिला एक सप्ताह तक चला ।

अकबर महान ने यह धोखा असीरगढ के सूबेदार बहादुर शाह फारुकी के साथ किया था । हालांकि फारूकी खानदान ने भी इस किले पर धोखा देकर ही कब्जा किया था । वही धोखा उनके सामने आया । असीरगढ का यह किला बुरहानपुर जिले में है । जिला मुख्यालय से बीस किलोमीटर की दूरी पर । जो संसार के प्राचीनतम पर्वतों में से एक सतपुड़ा के शिखर पर बना है । सतपुड़ा हिमालय से भी प्रचीन पर्वत है । उसी के शिखर पर यह यह किला बना है जिसकी गिनती दुनियाँ के अजेय किलों में की जाती है । यह किला कब बना किसने बनाया इसका निश्चित विवरण कहीं नहीं मिलता । हमलावरों ने इसके सभी साक्ष्य नष्ट कर दिये । फिर भी इसकी बनावट में मौर्यकाल की झलक भी है और गुप्तकाल की भी । लेकिन अधिकांश निर्माण कला की शैली बारहवीं शताब्दी की है । हालाँकि किले की नींव और कुछ निर्माण ईसा पूर्व के भी लगते हैं । पुरातत्व विशेषज्ञों का मानना है कि यह निर्माण अति प्राचीन है । और समय के साथ इसके पुनर्निर्माण होते रहे हैं । इसीलिये इसके अस्तित्व में विविधता है । हर युग की शिल्प कला झलकती है । स्थानीय नागरिकों में यह धारणा प्रबल है कि यह स्थान रामायण काल में भी समृद्ध था और पांडव काल में भी । किले में भगवान् गुप्तेश्वर मंदिर है । इस मंदिर के बारे में यह धारणा भी है कि यहां प्रतिदिन अश्वत्थामा पूजन के लिये आते हैं । यह प्रसंग इस स्थान को महाभारत काल से जोड़ता है । इस मंदिर में कुछ आश्चर्य तो हैं जो लोग लोगों की जिज्ञासा का कारण हैं । और उन्ही से अश्वत्थामा की किंवदंती को बल मिलता है ।

असीरगढ़ के इतिहास के बारे में अभी जो विवरण मिलता हैं वह इतिहासकार मोहम्मद कासिम द्वारा लिखित है । उनके अनुसार यह निर्माण बारहवीं से चौदहवीं शताब्दी के बीच हुआ । किले को आशा अहीर ने बनवाया था और उन्ही के नाम पर किले का नाम असीरगढ़ पढ़ा । पर आशा अहीर का भी अधिक विवरण नहीं मिलता । बहादुरशाह फारूकी के परिवार ने इन्हीं आशा अहीर से यह किला धोखा देकर पाया था । इतिहासकार मोहम्मद कासिम के विवरण के अनुसार दिल्ली के सुल्तान फिरोजशाह तुगलक का एक सरदार था मलिक फारूकी । दिल्ली के सत्ता संघर्ष में मलिक फारूकी अपने साथी सिपाहियों के साथ दिल्ली से दक्षिण की ओर चल दिया । उन दिनों बुरहानपुर और असीरगढ़ को दक्षिण का द्वार माना जाता था । दिल्ली के हर शासक ने असीरगढ़ पर हमला किया महीनों घेरा रहा, तोपें चलीं, पर कोई सफलता नहीं मिली । अधिकांश हमले बेकार हुये । इसका कारण किले की ऊँचाई है । उस युग में असीरगढ़ एक समृद्ध नगर हुआ करता था जो बार बार के हमलों में पूरी तरह उजड़ गया और अब एक छोटा सा गाँव रह गया ।

असफल होकर मलिक लौट गया । जाते समय आशा अहीर को भेंट दे गया और हमले के लिये माफी भी मांग गया । लेकिन वह एक माह बाद अपने दल के साथ पुनः असीरगढ़ आया । अपना कैंप नगर के बाहर लगाया । वह अपने साथ कुछ भेंट लाया था । उसने किलेदार आशा अहीर को खबर भेजी कि उसके परिवार और परिवार की महिलाओं की जान खतरे में है । शरण चाहिए । उदार आशा अहीर ने परिवार की सुरक्षा का आश्वासन दिया और किले के दरवाजे खोल दिये । मलिक फारूकी ने कुछ डोले भेजे और कहा कि इनमें बहन बेटियाँ हैं । आशा अहीर ने अपने पुत्रों को उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी । जैसे ही डोले किले के भीतर पहुँचे उन डोलों में से सैनिक निकल पड़े । उन्होंने सबसे पहले आशा अहीर के पुत्रों को मार डाला और मलिक फारूकी ने आशा अहीर को । इस तरह मलिक फारूकी ने किले पर कब्जा कर लिया । लूट हत्या बलात्कार का सिलसिला चला । किले के भीतर वही जीवित बचा जिसने इस्लाम कबूला बाकी सब मार डाले गये । मंदिर तोड़ दिये गये । उन्हे रूपान्तरण करके मस्जिदों में बदल दिया गया । आज भी वहां मस्जिदों में मंदिरों की नक्काशी के पत्थर देखे जा सकते हैं । जिस सूबेदार बहादुर शाह फारूकी से बादशाह अकबर ने किला छीना वह इस मलिक फारूकी का वंशज था ।

अकबर ने 1600 में दक्षिण का रुख किया । उसकी फौज कहर बरपाती हुई असीरगढ़ पहुँची । किले पर कोई छै माह तक घेरा पड़ा रहा लेकिन सफलता नहीं मिली और न बहादुरशाह विचलित हुआ । इसका कारण यह था कि किले के भीतर राशन पानी का पर्याप्त प्रबंध था । फारुखी भीतर सुरक्षित रहा । जब तोप के गोले भी बेअसर हुये तब अकबर ने चाल चली । ठीक उसी प्रकार जैसी मलिक फारुकी ने चली थी । अकबर ने कीमती भेंट भेजकर दोस्ती का संदेश दिया और कहा कि वे लौट रहे हैं जाते जाते दोस्ती का हाथ मिलाना चाहते हैं । साथ दावत करना चाहते हैं । फारुखी को यकीन हो इसके लिये अकबर ने तोपखाना रवाना कर दिया था । इस संदेश पर फारुकी ने कोई एक सप्ताह विचार किया । और पता लगाया । उसे सूचना मिली कि न केवल तोपखाना बल्कि आधी फौज भी वापस हो चुकी है । उसने दोस्ती का पैगाम कबूल कर लिया और अपने परिवार सहित दावत करने अकबर के कैंप में आ गया । वह 17 जनवरी 1601 की तिथि थी । वह दोपहर में आया । अकबर ने स्वागत किया । साथ भोजन की दावत हुई और बातचीत के लिये दूसरे पांडाल में गये । वहां पहले से यह प्रबंध था कि कौन कहाँ बैठेंगे । सब लोग निर्धारित आसन पर बैठकर बातें करने लगे । तभी अचानक फारुकी और उसके बेटों पर पीछे से हमले हुये और पकड़ लिये गये । इसके साथ ही मुगल घुड़सवार किले में दाखिल हुये । बंदी के रूप में फारूकी के दो बेटों को साथ ले जाया गया । एक बेटा और फारुकी को नीचे ही बंदी रखा गया । वहां घोषणा हुई कि यदि किसी ने विरोध किया तो फारुकी और उसके पूरे खानदान को कत्ल कर दिया जायेगा । यह सुनकर सब लोग सिर झुका कर खड़े हो गये । सैनिकों ने सबसे पहले शस्त्रागार पर कब्जा किया फिर जनानखाने को अपने कब्जे में लिया । फिर धन पूछा गया । जनानखाने और वफादारों को अकबर के सामने प्रस्तुत किया गया । पुरूषों को कत्ल करने का हुक्म हुआ और महिलाएं सैनिकों को भेंट कर दी गयी ।
असीरगढ़ के इस किले पर 17 जनवरी 1601 से 1760 तक मुगलों का कब्जा रहा । 1760 में मराठों ने इस किले पर अपना आधिपत्य किया । जो मंदिर असीरगढ़ में आज दीख रहे हैं उनका जीर्णोद्धार मराठा काल में ही हुआ । किले पर मराठों का आधिपत्य 1760 से 1819 तक रहा । इसके बाद यह किला कुछ वर्षों तक वीरान यहाँ फिर 1904 में किले पर अंग्रेजों का आधिपत्य हो गया । किले में अनेक शिलालेख हैं जो अधिकांश मुगल काल के हैं ।

Web Desk
+ posts

Related Post

error: Content is protected !!